All posts tagged: आयुर्वेद

garbvigyan

गर्भविज्ञान परिचय

सभी विज्ञानों का मूल विज्ञान – जिस पर पूरी मानव जाति का विकास आधारित है – वह गर्भविज्ञान है। व्यक्ति की योग्यता (potential) के सबसे अधिक विकास का काल गर्भकाल है। भारतीय ऋषियों ने गर्भ विज्ञान में बहुत चिरंतन सत्यों की प्राप्ति करी है।

चिकित्सा

भारतीय संस्कृति व चिकित्सा पद्धति में आयुर्वेद का महत्व – भाग २

आयुर्वेद रोग के उपचार से ज्यादा अनुसाशनात्मक जीवन की बात करता है। यदि कोई वैद्य के पास जाता है तो उसे न केवल दवा दी जाती है बल्कि कुछ मंत्र भी दिया जाता है जैसे- भोजन करें आराम से, सब चिंता को मार।

आयुर्वेद

भारतीय संस्कृति व चिकित्सा पद्धति में आयुर्वेद का महत्व – भाग १

आयुर्वेद संपूर्ण प्राणी जगत के लिए उसकी आयु का रक्षा शास्त्र है। यह मानव के सम्पूर्ण मानसिक व शारीरिक स्वास्थ्य की बात करता हैं। साथ ही आयुर्वेद में स्पष्ट उल्लेख है कि मानव को अपनी व बाह्य प्रकृति से सामजंस्य बनाकर ही अपना जीवनयापन करना चाहिए।

ancient indian science

भारतीय सांस्कृतिक विचारधारा – भाग २

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में इतिहास से ही भारत का अतुलनीय योगदान रहा है। प्राचीन काल से ही भारत साधुओं एवं द्रष्टाओं के साथ साथ विद्वानों एवं वैज्ञानिकों की भी भूमि रही है। आयुर्वेद के प्राचीन विज्ञान का मूलभूत पाठ महर्षि चरक द्वारा चरकसंहिता में लिखा गया। चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में महर्षि सुश्रुत की देन भी अतुलनीय है।