BHARATIYA LANGUAGES

All posts filed under: Bharatiya Languages

अगस्त्य

महर्षि अगस्त्य – भाग ३

एक ऐसे ऋषि जिन्होंने श्रीराम को न केवल एन्द्रास्त्र बल्कि वैष्णवी धनुष, तथा विभिन्न प्रकार के असंख्य बाणों का अक्षय भंडार प्रदान किया था। अगस्त्य ऋषि कथा का अंतिम भाग

ಕಥಾಮಾಲಿಕೆ – ಋಷಿ ಉದ್ದಾಲಕರು ಮತ್ತು ಶ್ವೇತಕೇತು

ಉದ್ದಾಲಕರ ಪ್ರಶ್ನೆ “ಯಾವ ವಿದ್ಯೆಯನ್ನು ಪಡೆದರೆ ಕೇಳಿಸದಿದ್ದನ್ನೂ ಆಲಿಸಬಹುದು?” ಶ್ವೇತಕೇತುವನ್ನು ಆತ್ಮಸಾಕ್ಷಾತ್ಕಾರದೆಡೆಗೆ ದೂಡಿದ ರೀತಿಯನ್ನು ಅರಿಯಬೇಕೆ? ಸ್ಮಿತಾ-ರ ಕಥೆಯನ್ನು ಓದಿ.

चिकित्सा

भारतीय संस्कृति व चिकित्सा पद्धति में आयुर्वेद का महत्व – भाग २

आयुर्वेद रोग के उपचार से ज्यादा अनुसाशनात्मक जीवन की बात करता है। यदि कोई वैद्य के पास जाता है तो उसे न केवल दवा दी जाती है बल्कि कुछ मंत्र भी दिया जाता है जैसे- भोजन करें आराम से, सब चिंता को मार।

आयुर्वेद

भारतीय संस्कृति व चिकित्सा पद्धति में आयुर्वेद का महत्व – भाग १

आयुर्वेद संपूर्ण प्राणी जगत के लिए उसकी आयु का रक्षा शास्त्र है। यह मानव के सम्पूर्ण मानसिक व शारीरिक स्वास्थ्य की बात करता हैं। साथ ही आयुर्वेद में स्पष्ट उल्लेख है कि मानव को अपनी व बाह्य प्रकृति से सामजंस्य बनाकर ही अपना जीवनयापन करना चाहिए।